Tuesday, 30 July 2013

श्याम सलोने नटवर नागर

देखो सखी आज यहाँ श्याम आए है,
मोर मुकुट शीश धर उर मोतिन हार ।
मुख छवि देखि अति अनूप शशि लजाये है ।
गरे माल भुज अति विशाल सोहे सिर्वंगी भाल ,
कोमल अधर लाल  मंद चाल देखि गजहु लजाये है ।
कटि मे पीत पट धरि गावत जसुमति नन्द  कुमार ,
बंशी निज अधरन पे धरि तान मधुर सुनाये है ।
यमुना तीरे कदंब की डारन छिपि गावे मधुर गान ,
सुनि सुनि मधुर ध्वनि  बंसी की कोयलहू शरमाये है ।
देखो सखी आज यहाँ श्याम आए है ।





4 comments:

  1. राधे-राधे! जय श्री कृष्ण!

    ReplyDelete
  2. sundar chavi shyam kishore ki....darshan karwa siye apne.....sundar rachna

    ReplyDelete
  3. Ati Sunder,
    Vinnie,
    I will be adding new articles & stories when once I am back to India.Vinnie

    ReplyDelete
  4. क्या बात है .. जय श्री कृष्ण

    ReplyDelete