Thursday, 29 August 2013

लघु कथा - बहू बनाम बेटी

बहू बनाम बेटी

राधा जी घर मे अकेली थी , बेटा बहू के साथ उसकी बीमार माँ को देखने चला गया था । उसने कुछ पूछा भी नहीं बस आकार बोला – माँ हम लोग जरा कृतिका की माँ को देखने जा रहे है शाम तक आ जाएँगे । आपका खाना कृतिका ने टेबल पर लगा दिया है टाइम पर खा लेना , तुम्हारी दवाएं भी वही रखी है खा लेना भूलना मत ,और दरवाजा अच्छे से बंद कर लेना ।” कहता हुआ वो कृतिका के साथ बाहर निकल गया । पर बहू ने एक शब्द भी न कहा । “क्या वो कहती तो क्या मै मना कर देती । बहुयेँ कभी बेटी नहीं बन सकती आखिर बेटी तो बेटी ही होती है । “ वे सोचती हुई गेट तक आई और अच्छी तरह गेट बंद कर दिया । बाहरी कमरे मे टी वी ऑन कर बैठ गई। कुछ ही देर बाद डोर बेल घनघना उठी । उठ कर दरवाजा खोला देखा उनकी अपनी बेटी दामाद के साथ खड़ी है । खुशी से उनका चेहरा खिल उठा । बेटी को गले लगाते हुए पूछा- “तेरी सास ने मना नहीं किया ”, “वह बोली उनकी सुनता कौन है उनके लिए तो उनका बेटा ही काफी है । वही उनको संभाल लेते है मै तो बोलती भी नहीं । और आज भी ये ही उन्हे बोल कर आए हैं मैंने न उनसे कुछ पूछा न कहा । बस ड्यूटी पूरी कर देती हूँ ताकि बेटे से शिकायत का मौका न मिले ।” मुसकुराते हुए उन्होने बेटी की इस करतूत को आसानी से भुला दिया।  

23 comments:

  1. very fine content ... reality of life..! beti ka moh per asaliyat samne aati hai tab pata chalta hai sansar mai sab kuchh apni dharna ke hisab se nahi tota..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका कथन सत्य है ।

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद आपका ।

      Delete
  3. यथार्थ का सुंदर चित्रण . धन्यवाद बेबाक अभिव्यक्ति के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार ।

      Delete
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति. विचारणीय.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार सौमित्र जी ।

      Delete
  5. यही दोहरी मानसिकता है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणी से मेरा उत्साह वर्धन होता है संगीता दी , आपका आभार ।

      Delete
  6. बिल्कुल सही और सटीक लघु कथा

    ''बहु बेटी तभी बन सकती है, जब वो ये पुर्णतः समझ जाएगी
    कि वो भी एक दिन सास बनेगी ।''

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने अभि ।

      Delete
  7. Truth depicted.
    Please visit my blog Unwarat.com I have written a new article--BhaktiVedenta Manor Watford London U.k. Janmashtami.Please read it & give your comments.
    Vinnie

    ReplyDelete
    Replies
    1. विनी दी आपके ब्लॉग पर आपके लेखन को पढना मेरे लिए सौभाग्य की बात है ।

      Delete
  8. हमारा समाज आज भी इन दोहरे मानदंडों को जी रहा है ! बेटी के लिये अलग मानसिकता है और बहुओं से अलग तरह की अपेक्षाएं हैं ! इसीलिये समन्वय व सामंजस्य स्थापित नहीं हो पाता ! प्रेरक एवँ सारगर्भित लघु कथा !

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  10. kitni ajeeb baat hai na...par hota hamesha aisa hi hai...yehi sach hai.....sundar....

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया कथा है ! जब तक हम बेटी और बहू के कर्तव्य और अधिकारों में असमानता बनाए रखेंगे ना कभी बहू बेटी सी लग पायेगी ना ही बेटी कभी अच्छी बहू बन पायेगी ! मैंने कल भी कमेन्ट किया था लेकिन कहीं दिखाई नहीं दे रहा !

    ReplyDelete
    Replies
    1. साधना दी अपना बहुमूल्य समय हमारे ब्लॉग पर देने और पढ़ने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद ।

      Delete
  12. यह फर्क शायद कभी मिट भी नहीं सकता कहने को अब बहुत से परिवार हैं जहां यह फर्क नहीं दिखता मगर मन में तो रहता ही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मै सहमत हूँ इस बात से पल्लवी कि अभी भी मनो का फर्क बाकी है ।

      Delete