Monday, 1 July 2013

चार दिन की चाँदनी

मान मन मूरख कहना मेरा
विषयों की यारी छोड़ दे ।
चार  दिन की चाँदनी है ,
आखिर  अंधेरा आयेगा ।
इसलिए अब हट विषयों से ,
निष्काम प्रभु से नाता जोड़ ले ।
संसार है स्वार्थ भरा ,
मूरख नहीं जनता क्या ।
बालपन गया जवानी भी गई ,
अरे! अब वृद्धता है आ गई ।
अब तो इच्छा तृष्णा मार कर ,
विषय आसक्ति  से नाता तोड़ दे।
नूतन यह मानुष का तन ,
विरथा ही, हा ! खो रहा ।
चार दिन की चाँदनी है .....................  

8 comments:

  1. aap bilkula sacha kahtI hai.
    vinnie

    ReplyDelete
  2. जीवन के लिए अहम सीख इस काव्य में सरल ढंग से समझाई है , आपको बधाई !

    ReplyDelete
  3. इस चार दिन की चाँदनी से वशीभूत होकर ही लोग सिर्री हो जाते हैं. क्या कीजिएगा?

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ... बधाई आप को

    ReplyDelete
  5. उत्साह वर्धन के लिए आप सबका शुक्रिया ।

    ReplyDelete