Wednesday, 26 June 2013

" सुन लेते यदि "

सुन लेते यदि धरती की पुकार ,
न होती ऐसी विषम गुहार ,
न गूँजता आर्तनाद ,
न होता भीषण संहार ,
जो बोया वही पाया । 

धरा और धारा ने ,
वही तो है लौटाया ,
फर्क बस इतना सा कि ,
कष्ट उनका हमे न दिखता था ,
उनको हमारा कष्ट भी है रुलाता । 

नूतन आज ही चलो करें प्रतिज्ञा ,
न करेंगे धरती का दोहन ,
न तोड़ेंगे पर्वत पहाड़,
बस अब लगाएंगे वृक्ष अपार । 

26 comments:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 29/06/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी यशोदा जी , जरूर । आपका आभार , मेरी कविता दूर दूर तक पहुंचे वे सब भी सुने जिनहे धरती का रोदन न सुनाई देता है ।

      Delete
  2. नूतन आज ही चलो करें प्रतिज्ञा ,
    न करेंगे धरती का दोहन ,
    न तोड़ेंगे पर्वत पहाड़,
    बस अब लगाएंगे वृक्ष अपार । ... बहुत सुंदर रचना अन्नपूर्णा जी... बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. मीना जी नमस्कार , और धन्यवाद उत्साह वर्धन के लिए ।

      Delete
  3. बहुत आभार शर्मा जी ।

    ReplyDelete
  4. आपकी यह प्रस्तुति 27/06/2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. सार्थक सन्देश के साथ बेहतरीन रचना ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  6. bhut sundar .......rachana achchhi lagi

    ReplyDelete
  7. पर्यावरण संगरक्षण जरुरी.... सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर ...

    ReplyDelete
  9. आपकी यह रचना कल दिनांक 27.06.2013 को http://blogprasaran.blogspot.com पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  10. आपकी यह रचना कल दिनांक 28.06.2013 को http://blogprasaran.blogspot.com पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  11. bilkul sahi kaha apne....sundar prastuti

    ReplyDelete
  12. आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार उत्साह वर्धन के लिए ।

    ReplyDelete
  13. प्रकृति ने चेतावनी दी है. उम्मीद है सब जाग जाएँ. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  14. जरूरत है इस प्रति‍ज्ञा की..

    ReplyDelete
  15. सार्थक संदेश देती सुंदर रचना ....
    शुभकामनायें ॰

    ReplyDelete
  16. सुन्दर
    अभिव्यक्ति

    ReplyDelete