Sunday, 21 April 2013

सिपाही का वादा

सिपाही की भर्ती

मत सोचो हम, निर्बल अरु कृशकाय हैं।
रखो दृढ़ संकल्प, मत सोचो निरुपाय है॥

मन मे जोश भरा, अर्पण करते जान है ।
देख व्यवस्था आज, मन मे न अभिमान है ॥

मिटा नापाक इरादा , पूरा कर अपना वादा ।
न हो कोई बेटी अब शिकार, करते है वादा ॥

सीने पर गोली खाने , अपना सीना तान चले।
कुछ कर दिखाने हम , वीर जवान चले॥


2 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज सोमवार (22-04-2013) के 'एक ही गुज़ारिश' :चर्चामंच 1222 (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  2. ,बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
    latest post सजा कैसा हो ?
    latest post तुम अनन्त

    ReplyDelete