Sunday, 11 August 2013

पाखण्ड

अतुकांत" कविता
जीव है पक्षी की अनुहार ,
उड़त नहि लागे नेक अपार ।
एक द्वार की कौन चलावे ,
लागे हैं नौ द्वार ।
किस द्वारे से किस द्वारे जावे,
कैसा ये पाखंड दिखावे ।
कोउ न जानन हार,
नित यहि मे भरमावे ।
गढ़ लइ कोट अटारी सुंदर ,
कीन्ही यहाँ तैयार ।
षटरस व्यंजन नित्य खवावे,
करि सोरह सिंगार ।
नित नए करतब दिखलावे ,
भूल समय का प्यार ।

9 comments:

  1. वाह वाह
    ''नित नए करतब दिखलावे,
    भूल समय का प्यार ।''
    बहुत सुन्दर शब्द कहे आपने सुन्दर कविता रची

    ReplyDelete
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 14/08/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना की बधाई !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना की बधाई !

    ReplyDelete
  5. दस द्वारों का पींजरा ,तामें पंछी पौन ,
    रहे अचंभा होत है ,गए अचंभा कौन !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना की बधाई !

    ReplyDelete